• Primary ka master | uptet news

    Saturday, September 15, 2018

    UPTET 68500 फिर कॉपी में पास, रिजल्ट में फेल अभ्यर्थी

    फिर कॉपी में पास, रिजल्ट में फेल अभ्यर्थी

    जेब पर मार

    शिक्षक भर्ती में ही पहले भी लाखों वसूले

    राज्य ब्यूरो, इलाहाबाद : परिषदीय स्कूलों की 68500 सहायक अध्यापक भर्ती की लिखित परीक्षा परिणाम को लेकर हंगामा थमने का नाम नहीं ले रहा है। हाईकोर्ट के आदेश पर शुक्रवार को स्कैन कॉपियां बांटी गई, उनमें रिजल्ट में फेल होने वाले कई अभ्यर्थी कॉपी पर दर्ज अंकों से पास हो रहे हैं। 39 अभ्यर्थियों में से सिर्फ 32 को ही कॉपी मिल पाई है, एक अभ्यर्थी का पहला पेज नहीं पाया तो अन्य की कॉपियां खोजी जा रही हैं। कॉपी देखते ही अभ्यर्थियों का गुस्सा फूट पड़ा है।

    बेसिक शिक्षा परिषद के प्राथमिक स्कूलों में शिक्षक भर्ती की पहली लिखित परीक्षा के परिणाम में बेशुमार गड़बड़ियां सामने आ रही हैं। परीक्षा नियामक प्राधिकारी सचिव के निलंबन व उच्च स्तरीय जांच टीम बनाए जाने के चार दिन बाद शुक्रवार को फिर स्कैन कॉपी वितरण का कार्य शुरू हुआ। इसमें शिखा यादव अनुक्रमांक 59600401908 को रिजल्ट में महज 22 अंक मिले थे, जबकि उसकी कॉपी पर 75 अंक दर्ज मिले हैं। ऐसे ही अभिषेक वर्मा अनुक्रमांक 28280502751 को रिजल्ट में 60 अंक मिले थे, उसकी कॉपी पर 67 अंक लिखे हैं और सात प्रश्नों के अंक कुल अंकों में जोड़े नहीं गए हैं। आराधना वर्मा अनुक्रमांक 59590200698 को रिजल्ट 19 और कॉपी पर 74 अंक मिले हैं। श्वेता सिंह अनुक्रमांक 2421207422 को रिजल्ट में 64 अंक मिले थे, उसकी कॉपी में दर्ज तीन अंक जोड़े नहीं गए हैं। गोपाल यादव अनुक्रमांक 35350200569 को रिजल्ट 66 अंक मिले थे, उसकी कॉपी में कटिंग और ओवर राइटिंग करके सही प्रश्नों में अंक नहीं दिए गए हैं। इसी तरह से आशुतोष सिंह अनुक्रमांक 35360502271 को रिजल्ट 66 अंक मिले, उसके कई सवाल कॉपी पर सही है पर उन पर अंक नहीं दिए गए हैं। वहीं, नीलम कुमारी अनुक्रमांक 68700301126 को कॉपी में कटिंग होने पर भी अंक दिए गए हैं। अभ्यर्थी विशाल सिंह व अनूप ने बताया कि कोर्ट के आदेश पर भी सभी अभ्यर्थियों को कॉपी नहीं मिल सकी है। सात अभ्यर्थियों की कॉपी अब भी खोजी जा रही है, एक अभ्यर्थी का पहला पेज गुम हो गया है।

    परीक्षा नियामक प्राधिकारी कार्यालय उप्र इलाहाबाद में कोर्ट के आदेश पर मिलीं स्कैन कॉपियां दिखाते अभ्यर्थी।अनीता त्रिपाठी की कॉपी पर ओवर राइटिंग

    परीक्षा नियामक प्राधिकारी कार्यालय से पिछले दिनों 119 अभ्यर्थियों को कोर्ट के आदेश पर कॉपी दी गई थी, उसमें अनीता त्रिपाठी के एक प्रश्न के उत्तर में ओवर राइटिंग होना सामने आया है। ऐसे ही कुछ अभ्यर्थियों को कटिंग होने पर अंक दिए गए हैं तो कुछ का मूल्यांकन नहीं हुआ है। अभ्यर्थियों ने कहा कि इसकी शिकायत व उच्च स्तरीय टीम से करेंगे।

    शिक्षक भर्ती में ही पहले भी लाखों वसूले

    राज्य ब्यूरो, इलाहाबाद : शिक्षक बनने के लिए हजारों अभ्यर्थियों को भर्ती के दौरान बड़ी कीमत चुकानी पड़ी है। अभ्यर्थी व उनके अभिभावकों की जेबें खाली करने में हर सरकार का रवैया एक जैसा ही रहा है। सपा शासनकाल में परिषद की 72825 शिक्षक भर्ती में अभ्यर्थियों को हर जिले के लिए आवेदन शुल्क देना था, अब योगी सरकार 68500 शिक्षक भर्ती की स्कैन कॉपी देने के लिए दो हजार रुपये का डिमांड ड्राफ्ट प्रति अभ्यर्थी ले रही है। कॉपियां जांचने में गलती कोई और कर रहा है और आर्थिक दंड अभ्यर्थियों को चुकाना पड़ रहा है। बेसिक शिक्षा परिषद के प्राथमिक स्कूलों में 72825 शिक्षकों की भर्ती के लिए 2011 में विज्ञापन जारी हुआ। इसके लिए 2012 में आवेदन लिया गया। नियम बना कि सामान्य वर्ग का अभ्यर्थी जितने जिलों में आवेदन करेगा, प्रति जिला 500 रुपये का ड्राफ्ट देना होगा, जबकि आरक्षित वर्ग का अभ्यर्थी प्रति जिला 200 रुपये का ड्राफ्ट लगाएगा। उस समय एक-एक अभ्यर्थी ने औसतन 35 से 40 जिलों में आवेदन किया, ताकि हर हाल में वह शिक्षक बन सके। इसके लिए उन्हें खासा धन खर्च करना पड़ा। लंबे समय तक यह धन फंसा रहा और अभ्यर्थी इसे वापस करने की मांग करते रहे। बाद में सपा सरकार ने इसे लौटाने का आदेश किया लेकिन, अब तक उस पर अमल नहीं हो सका है।’

    >>सपा शासन में 72825 भर्ती में हर जिले के लिए देना पड़ा था शुल्क

    ’>>अब 68500 सहायक शिक्षक भर्ती में स्कैन कॉपी पाने में कट रही जेब

    Primary Ka Master

    Basic Shiksha News

    UPTET