UPPSC LT GRADE : डेढ़ हजार याचिकाओं में झूलता रहा रिजल्ट

पहले दीपावली पर रिजल्ट के धमाके फिर नववर्ष पर चयन के तोहफे का इंतजार होता रहा। प्रदेश भर के ऐसे हजारों अभ्यर्थियों को होली के रंगों के साथ पहले परिणाम की सौगात की मिली है। इसमें लंबा समय लगने की वजह हाईकोर्ट में दाखिल डेढ़ हजार याचिकाएं रही हैं, जिनमें अलग-अलग आदेश हुए, उसे देखते हुए उप्र लोकसेवा आयोग को परिणाम तैयार करना पड़ा। यूपीपीएससी को अभी 12 और विषयों का रिजल्ट देना है। इसमें कम पद व अभ्यर्थी वाले विषयों का परिणाम पहले आएगा।

राजकीय माध्यमिक कालेजों में एलटी ग्रेड शिक्षक चयन भर्ती की शुरुआत सपा शासनकाल में हुई थी। 2016-17 में मेरिट से चयन के लिए ऑनलाइन आवेदन भी लिए गए। उसके बाद विधानसभा चुनाव की आचार संहिता के कारण प्रक्रिया आगे नहीं बढ़ सकी। प्रदेश की भाजपा सरकार ने एलटी ग्रेड शिक्षकों का चयन लिखित परीक्षा से कराने का निर्णय लिया और पहली बार उप्र लोकसेवा आयोग को इसका इम्तिहान कराने का जिम्मा दिया गया। शासन ने मार्च 2017 तक राजकीय कालेजों में रिक्त कुल पदों 10768 का अधियाचन यूपीपीएससी को भेजा था। इसके लिए ऑनलाइन आवेदन लिए गए और 29 जुलाई को प्रदेश के 39 जिलों में लिखित परीक्षा कराई गई। इम्तिहान 1760 केंद्रों पर हुआ इसके लिए सात लाख 63 हजार 317 अभ्यर्थी पंजीकृत हुए उसमें से 52 प्रतिशत ने परीक्षा दिया। एक खास बात यह है कि चयन में साक्षात्कार नहीं होगा, बल्कि किसी विषय में यदि अधिक अभ्यर्थी सफल होते हैं तो कटऑफ अंक के जरिए उन्हें नियुक्ति मिलेगी। हालांकि यूपीपीएससी वेटिंग लिस्ट नहीं दे रहा है।